Avail 20% discount on updated CA lectures for Dec 21 .Use Code RESULT20 !! Call : 088803-20003

ICICI

Share on Facebook

Share on Twitter

Share on LinkedIn

Share on Email

Share More

CMA. CS. Sanjay Gupta ("PROUD TO BE AN INDIAN")     21 October 2010

Kavita Sangrah.......

Hi All......

I am Starting this thread for Poems. I will try to contribute some motivational poems on this thread from time to time. All of you are also invited to make your contribution on this thread.

Regards

 

First One.....

 

    Pehchaan

kab se dhoondh raha hoon
main svayam apni pahchaan
paas hoon svayam ke par phir bhi
apne aap se hoon main kitna anjaan
apne hi banaaye raaste par khojta hoon
apne hi pairon ke nishaan
kuch pal-rukata hoon, dekhta hoon na jaane
kaise phir chal padta hoon hokar main pareshaan
kabhi hansata hoon kabhi rota hoon
kabhi ho jaata hoon main svayam par hairaan
jaise samajh nahi paata hoon
main apne hi banaye vidhi ka vidhaan
kisi anya ki aankhon me
hryday mein, mastishk mein
dhoondhta hoon apne jeewan ka samvidhaan
is uljhe se parivesh mein kahaan mil paayegi
mujhe meri apni pahchaan?



 67 Replies

CA Navin Jain

CA Navin Jain (MANAGER (FINANCE & ACCOUNTS))     21 October 2010

Very nice poem. be continue

CMA. CS. Sanjay Gupta

CMA. CS. Sanjay Gupta ("PROUD TO BE AN INDIAN")     21 October 2010

पेड़ लगाओ
पेड़ लगाओ, पेड़ लगाओ
शहर को हरा भरा बनाओ
शहर में हो गया है धुआं-धुआं
जीना मुहाल हो गया यहां
हवा जहां कि धूल भरी
कैसे खिले कोई फूल-पंखुरी
मैला-मैला है पानी यहां
परेशां है जिंदगानी यहां
कुछ तो जतन सुझाओ
पेड़ लगाओ, पेड़ लगाओ
शहर को हरा भरा बनाओ
पेड़ शहर को हरा भरा कर देंगे
फिजाओं में खुश्बू भर देंगे
ये धुआं गुम हो जाएगा
खुशमिजाज मौसम हो जाएगा
तो क्यूं न पेड़ लगाओ
पेड़ लगाओ, पेड़ लगाओ
शहर को हरा भरा बनाओ
इस मटमैले पानी को
कैसे साफ रखे ज़िंदगानी को
जागृति अभियान चलाओ
पेड़ लगाओ, पेड़ लगाओ
शहर को हरा भरा बनाओ

1 Like
CS Richa Sharma

CS Richa Sharma (company secretary)     21 October 2010

Thanks for starting this thread...

Simranjeet Singh

Simranjeet Singh (Proprietor at S Simranjeet & Associates Company Secretaries)     21 October 2010

jindagi hai ek nadi ki dhara
chalna hai lagataar
rukna nahi, thamna nahi
chalte rehna mere sathi ,o yaar!!

manjil ki raha par
use pane ki chaha par
tu kathin parishram kar
aur na badhao se dar

mat samajh swayam ko chota
kuch bhi na hota khota
khud ko samjh sabse uucha
par mat soch dusro ko nicha

sone kaaaram na kar
thakne ka tu kaam na kar
bas jaagne ka hai kaam
kyuki tujhe pane hai is duniya me naam!

3 Like
Rajesh

Rajesh (Service )     21 October 2010

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,

इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी,

शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए।

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में,

हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए।

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,

सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,

हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।

- दुष्यन्त कुमार

2 Like
Ankur Garg

Ankur Garg (Company Secretary and Compliance Officer)     21 October 2010

पानी तो अनमोल है
उसको बचा के रखिये
बर्बाद मत कीजिये इसे
जीने का सलीका सीखिए

पानी को तरसते हैं
धरती पे काफी लोग यहाँ
पानी ही तो दौलत है
पानी सा धन भला कहां

पानी की है मात्रा सीमित
पीने का पानी और सीमित
तो पानी को बचाइए
इसी में है समृधी निहित

शेविंग या कार की धुलाई
या जब करते हो स्नान
पानी की जरूर बचत करें
पानी से है धरती महान

जल ही तो जीवन है
पानी है गुनों की खान
पानी ही तो सब कुछ है
पानी है धरती की शान

पर्यावरण को न बचाया गया
तो वो दिन जल्दी ही आएगा
जब धरती पे हर इंसान
बस ‘पानी पानी’ चिल्लाएगा

रुपये पैसे धन दौलत
कुछ भी काम न आएगा
यदि इंसान इसी तरह
धरती को नोच के खाएगा

आने वाली पुश्तों का
कुछ तो हम करें ख़्याल
पानी के बगैर भविष्य
भला कैसे होगा खुशहाल

बच्चे, बूढे और जवान
पानी बचाएँ बने महान
अब तो जाग जाओ इंसान
पानी में बसते हैं प्राण :)

3 Like
CS Richa Sharma

CS Richa Sharma (company secretary)     21 October 2010

  

सोचा था, चलूँगा सबके साथ, 

पर मेरी किस्मत, सबको दूर ले गयी...

और अब मैं हूँ अकेला, वो सब हैं साथ,

किस्मत या बदकिस्मत, ख्वाब ही ले गयी...

बस किस्मत का तो यही है दस्तूर,

ख्वाबों को तो ख्वाबों में बुनो...

कुछ समझौते, कुछ दिल पे नासूर,

हर डगर पे रास्ता खुद ही चुनो...

 हाथों की रेखाएँ यूँ नहीं खिंचतीं,

वक़्त के साथ बदलती जाती हैं...

जहाँ तुम अपनी राह बदलते हो,

वो अपना आकार बदलती जाती हैं...

वक़्त की कोई सीमा नहीं होती,

जज्बात में कोई प्रतिभा नहीं होती है...

बस दिल और दिमाग साथ चले तो

राह में कोई दुविधा नहीं होती है...

इस दुनिया में आगे बढ़ने को,

बस एक ख्वाब की जरूरत होती है...

जो सफलता धोखा नहीं देती,

वो किस्मत की मोहताज़ नहीं होती है...

आत्म-विश्वास, और संयम के साथ,

दृढ़ संकल्प-शक्ति ले आगे बढ़ो |

रात में ख्वाब और दिन में आस

बस संघर्ष करते गति में उड़ो |

अकेले चले तो क्या हुआ,

लोग जुड़ेंगे, कारवाँ बनता जायेगा |

मंजिल तुम्हारी, रास्ता तुम्हारा

कारवाँ क्या है, बस चलता ही जायेगा |

 

3 Like
CMA. CS. Sanjay Gupta

CMA. CS. Sanjay Gupta ("PROUD TO BE AN INDIAN")     21 October 2010

Bikhare tinkon me duniya dhundataa hun
Chhota aadmi hun chhoti khushiyan dhundataa hun
Hazaaron maye ka nashaa ho jin me
Aisi pyari do akhiyan dhundataa hun
Chhota aadmi hun chhoti khushiyan dhundataa hun
Maqbool ho ke bhi gumnam rahe hum
Badnaam hone ab ruswaiyan dhundataa hun
Chhota aadmi hun chhoti khushiyan dhundataa hun
Ho gaye barbaad jaane kitni aabaadiyan
Aabaad hone ab barbadiyan dhundataa hun
Chhota aadmi hun chhoti khushiyan dhundataa hun
Mujhko ye pata hai kuch haasil nahin is se
Bujha ke diya andhere me parchhaiyan dhundataa hun
Chhota aadmi hun chhoti khushiyan dhundataa hun
Bechain ho gaya hun duniya ke shor se
Veeran Khandaron me tanhaaiyan dhundataa hun
Chhota aadmi hun chhoti khushiyan dhundataa hun

2 Like
CS Richa Sharma

CS Richa Sharma (company secretary)     21 October 2010

Greatttttttt post Sanjay..

"Bikhare tinkon me duniya dhundataa hun

Chhota aadmi hun chhoti khushiyan dhundataa hun...."

1 Like
CMA. CS. Sanjay Gupta

CMA. CS. Sanjay Gupta ("PROUD TO BE AN INDIAN")     21 October 2010

Take A Challenge Everyday


Take a challenge everyday
That tomorrow should be better than today.
When I fight my innerself, I do lose battles sometime
But the war with myself, is what I win everytime.

I crib not, about what is gone
I forget the nights, start afresh every dawn.
Present, is what, I create and enjoy
Content am I, like a child with his toy.

What it is! matters, not to me
Coz I believe to see what can be.
Not blaming others, faults in me, is what I see
Coz I believe if it is to be it is up to me.

I just not know how to smile
But I believe in spreading a smile.
Its not easy to spread a smile,
For this, one needs to walk an extra mile.

Step by step, step by step, is how I tread the path
In sea of failures, to reach success, I took a bath
The fun lay, not in the destination
But journey itself was a fascination.

Nothing came free, but with success in mind
I payed the price, not just money, but in every kind.
What it is to successful, had I known
To reach it, double the efforts, would I have sown.

I counted not the seeds in a fruit
But counted the fruits that came from every root.
I hit the iron when it was hot
But ridicule in return is all I got.

BUT

When I touched the pinnacles, I saw the viewpoints alter
Concern in return for a little hard work, I think was a good barter…
Concern in return for a little hard work, I thought was a good barter…

4 Like
Santhosh Poojary

Santhosh Poojary (SIEMPRE AHÍ PARA TI)     21 October 2010

इतनी बड़ी धरती हमारी
और छोटे से हम

मानव, मींन. पशु, और पतिंगे
लाखो जीवों का यह घर;
धरती पर, धरती के नीचे,
कुछ रहते धरती की उपर,
सब मे जीवन, सब है बराबर,
नही है कोई कम|
इतने बड़ी धरती हमारी
और छोटे से हम|

रंग-बिरंगे, पर, पकांगे,
माघ, गगन पंछी मंडराते;
दाने दो ही चुगते लकिन
मीठे, लंबे गीत सुनते;
डगमग चलते, नाचा करते
खुश रहते हेर दम|
इतनी बड़ी धरती हुमारी
और छोटे से हम|

कई, घास, पौधे नन्हे,
जीवन रक्षक वृक्ष हुमारे;
रोटी. दल, सब्ज़ी, फल
आनोंदो के श्रोत हुमारे;
जब तक भूमि हरी रहेगी
स्वस्थ रहेंगे हम|
इतने बरी धरती हुमारी
और छोटे से हम|

4 Like
Santhosh Poojary

Santhosh Poojary (SIEMPRE AHÍ PARA TI)     21 October 2010

 

Jaanata hoon thak gayee ho,
Umr ke lambe safar se,
Saanp se dasate shahar se,
Aas se aur aansuon se,
Bheed ke gahare bhawanar se.
Waqt firata hai suno,
Itna daro na .
Kuchh kaho na ..
 
  Kis tarah ladatee rahi ho,
Pyaas se parchhaiyon se,
Neend se , angadaiyon se,
Maut se aur zindagi se,
Teej se ,tanahaiyon se.
Sab tapasya tod dalo,
Ab saho na
Kuchh kaho na !!

4 Like
CMA. CS. Sanjay Gupta

CMA. CS. Sanjay Gupta ("PROUD TO BE AN INDIAN")     21 October 2010

YAH JEEVAN BHI

 

 

 

 

YAH JEEVAN BHI EK AJEEB KHEL DIKHLATA HAI
KABHI PHOOLON KE RAHON PAR CHALATA HAI
TO KABHI GLANI KE SARITA MEIN DUBATA HAI
YAHA JEEVAN BHI EK AJEEB KHEL DIKHLATA HAI

 

JEEVAN KE IS ASTHAYI DAUD MEIN
MANUSHYA,PARISHRAM KARO TUM JI TOD KE
ASAMBHAV KEHNA GHOR PAAP HAI
PRAGATI KE LIYE YAHA SHABD ABHISHAP HAI

 

RAH MEIN TUMHARI BAHUT BAADHAYEIN AAYENGI
JO SHAYAD TUMHARA KUCH BIGADNA CHAHENGI
SAMNA KARO TUM UNKA DAT KAR
DUSRON KE LIYE PRERNA BANO APNE LAKSHYA KI OR AAGE BADKAR

 

 

 

SADHBHAV AUR MITRATA JEEVAN KE MUL BHAV HAI
EKTA SE HI CHALTI YE ASTHAYI NAAV HAI
DOOBNE KE DAR SE ZARA MAT RUKO TUM
HE MANUSHYA CHALE CHALO TUM,CHALE CHALO TUM

1 Like
Santhosh Poojary

Santhosh Poojary (SIEMPRE AHÍ PARA TI)     21 October 2010

जा चुके है सब और वही खामोशी छायी है,
पसरा है हर ओर सन्नाटा, तन्हाई मुस्कुराई है,

छूट चुकी है रेल ,
चंद लम्हों की तो बात थी,

क्या रौनक थी यहॉं,
जैसे सजी कोई महफिल खास थी,

अजनबी थे चेहरे सारे,
फिर भी उनसे मुलाक़ात थी,

भेजी थी किसी ने अपनाइयत,
सलाम मे वो क्या बात थी,

एक पल थे आप जैसे क़ौसर,
अब बची अकेली रात थी,

चलो अब लौट चलें यहॉं से,
छूट चुकी है रेल
ये अब गुज़री बात थी,

उङते काग़ज़, करते बयान्‍,
इनकी भी किसी से
दो पल पहले मुलाक़ात थी,

बढ़ चले क़दम,
कनारे उन पटरियों
कहानी जिनके रोज़ ये साथ थी,

फिर आएगी दूजी रेल,
फिर चीरेगी ये सन्नाटा
जैसे जिन्दगी से फिर मुलाक़ात थी,

फिर लौटेंगे और,
भारी क़दमों से,जैसे
कोई गहरी सी बात थी,

छूट चुकी है रेल,
अब सिर्फ काली स्याहा रात थी |


Leave a reply

Your are not logged in . Please login to post replies

Click here to Login / Register  


Start a New Discussion

Popular Discussion


view more »







Subscribe to the latest topics :
Search Forum:

Trending Tags