Easy Office
LCI Learning

How was today's isca paper

Page no : 2

(Guest)

sahi me yaar... Paper me dekhne layak kuch nahi h...

 


PSPSPS (Practicing) (1344 Points)
Replied 12 May 2013

Ankitbhai Paper dekh ke bus yeh samaj ne ki koshish karenge ki aacha hua hum pichle Attempt mei Pass ho gaye warna Humari kaise lag jati aur kahan kahan se Hawa nikaljati aur Pilli hoti yeh samajne ki Koshish karenge


(Guest)

Sab kuch Bouncer series jaisa tha...


PSPSPS (Practicing) (1344 Points)
Replied 12 May 2013

Bus yeh dekhna hai ki ICAI ne aap sab mere dosto ki kaise kaise aur kitni berehami se le li. 


ankit (ca) (33 Points)
Replied 12 May 2013

jo chej ab hogi ni usko ky sochte ho



vidhyalaksshmi (student) (190 Points)
Replied 12 May 2013

itna b bad nahi tha par acha b nahi tha manageable as done from practice manual

 



(Guest)

paper dekh ke hum pe hasna h kya..??


PSPSPS (Practicing) (1344 Points)
Replied 12 May 2013

So bhaiya Mai yeh sochu ki mere Pichle janam ke Kuch Puniya thei Jo mai Nov 2012 mei Pass kar gaya, warna toh fir Nov 2013 ke Pehle pass nahi hona Tha.Uparwale ne Bacha Liya Na. Bacche ki Jaan bach gayi



(Guest)

AApki to jaan bach gai.. ab bhagwan se apne dosto ke liye bhi thodi dua karlo...


GAURAV SHARMA (CA Job) (22 Points)
Replied 12 May 2013

paper is manageable



PSPSPS (Practicing) (1344 Points)
Replied 12 May 2013

Riddhiji Hum bhi woh Din se Gujre hai, toh hum apnope aur apne dukhi dosto pe kya hasenge. Hum toh ap sab ka gam halka karne ki koshish kar rahe hai ji. Aur Bhagwan ka Thanks kar rahe hai ki humari naiya Pichle Baar hi Par laga di


M. N. JHA (CA) (8316 Points)
Replied 12 May 2013

 

एक जाने-माने स्पीकर ने हाथ में पांच सौ का नोट लहराते हुए अपनी सेमीनार शुरू की. हाल में बैठे सैकड़ों लोगों से उसने पूछा ,” ये पांच सौ का नोट कौन लेना चाहता है?” हाथ उठना शुरू हो गए.
फिर उसने कहा ,” मैं इस नोट को आपमें से किसी एक को दूंगा पर उससे पहले मुझे ये कर लेने दीजिये .” और उसने नोट को अपनी मुट्ठी में चिमोड़ना शुरू कर दिया. और फिर उसने पूछा,” कौन है जो अब भी यह नोट लेना चाहता है?” अभी भी लोगों के हाथ उठने शुरू हो गए.
“अच्छा” उसने कहा,” अगर मैं ये कर दूं ? “ और उसने नोट को नीचे गिराकर पैरों से कुचलना शुरू कर दिया. उसने नोट उठाई , वह बिल्कुल चिमुड़ी और गन्दी हो गयी थी.
“ क्या अभी भी कोई है जो इसे लेना चाहता है?”. और एक बार फिर हाथ उठने शुरू हो गए.
“ दोस्तों , आप लोगों ने आज एक बहुत महत्त्वपूर्ण पाठ सीखा है. मैंने इस नोट के साथ इतना कुछ किया पर फिर भी आप इसे लेना चाहते थे क्योंकि ये सब होने के बावजूद नोट की कीमत घटी नहीं,उसका मूल्य अभी भी 500 था.
जीवन में कई बार हम गिरते हैं, हारते हैं, हमारे लिए हुए निर्णय हमें मिटटी में मिला देते हैं. हमें ऐसा लगने लगता है कि हमारी कोई कीमत नहीं है. लेकिन आपके साथ चाहे जो हुआ हो या भविष्य में जो हो जाए , आपका मूल्य कम नहीं होता. आप स्पेशल हैं, इस बात को कभी मत भूलिए.
कभी भी बीते हुए कल की निराशा को आने वाले कल के सपनो को बर्बाद मत करने दीजिये. याद रखिये आपके पास जो सबसे कीमती चीज है, वो है आपका जीवन.” —
एक जाने-माने स्पीकर ने हाथ में पांच सौ का नोट लहराते हुए अपनी सेमीनार शुरू की. हाल में बैठे सैकड़ों लोगों से उसने पूछा ,” ये पांच सौ का नोट कौन लेना चाहता है?” हाथ उठना शुरू हो गए.
फिर उसने कहा ,” मैं इस नोट को आपमें से किसी एक को दूंगा पर उससे पहले मुझे ये कर लेने दीजिये .” और उसने नोट को अपनी मुट्ठी में चिमोड़ना शुरू कर दिया. और फिर उसने पूछा,” कौन है जो अब भी यह नोट लेना चाहता है?” अभी भी लोगों के हाथ उठने शुरू हो गए.
“अच्छा” उसने कहा,” अगर मैं ये कर दूं ? “ और उसने नोट को नीचे गिराकर पैरों से कुचलना शुरू कर दिया. उसने नोट उठाई , वह बिल्कुल चिमुड़ी और गन्दी हो गयी थी.
“ क्या अभी भी कोई है जो इसे लेना चाहता है?”. और एक बार फिर हाथ उठने शुरू हो गए.
“ दोस्तों , आप लोगों ने आज एक बहुत महत्त्वपूर्ण पाठ सीखा है. मैंने इस नोट के साथ इतना कुछ किया पर फिर भी आप इसे लेना चाहते थे क्योंकि ये सब होने के बावजूद नोट की कीमत घटी नहीं,उसका मूल्य अभी भी 500 था.
जीवन में कई बार हम गिरते हैं, हारते हैं, हमारे लिए हुए निर्णय हमें मिटटी में मिला देते हैं. हमें ऐसा लगने लगता है कि हमारी कोई कीमत नहीं है. लेकिन आपके साथ चाहे जो हुआ हो या भविष्य में जो हो जाए , आपका मूल्य कम नहीं होता. आप स्पेशल हैं, इस बात को कभी मत भूलिए.
कभी भी बीते हुए कल की निराशा को आने वाले कल के सपनो को बर्बाद मत करने दीजिये. याद रखिये आपके पास जो सबसे कीमती चीज है, वो है आपका जीवन.” —

 

1 Like

PSPSPS (Practicing) (1344 Points)
Replied 12 May 2013

Chalo all Borderline walo mai apko khush kar deta hun. I passed in Nov 2012 then Too i called for my Certified copies to see how I passed & specially in ISCA. then to my shocking surprise I saw that I had 37 in Paper & 46 on Marksheet & I passed in ISCA I had my aggregrate up but ICAI gives 8 - 10 marks Grace which I saw with my own eyes on my Paper & I passed. I am sharing this Fact with all so agar Borderline pe Ho toh dont have tension ICAI will help & miracles Happes. I am not telling this Now but you all can go & see my forum of January 2013 & you will find the same details that Miracles happen
5 Like

Parag Vikmani (Rating Analyst) (78 Points)
Replied 12 May 2013

 

Tourture 3 hours ........

Difficult to clear.........

 

1 Like


Parag Vikmani (Rating Analyst) (78 Points)
Replied 12 May 2013

Originally posted by : PSPSPS

So bhaiya Mai yeh sochu ki mere Pichle janam ke Kuch Puniya thei Jo mai Nov 2012 mei Pass kar gaya, warna toh fir Nov 2013 ke Pehle pass nahi hona Tha.Uparwale ne Bacha Liya Na. Bacche ki Jaan bach gayi

Aur Hamne Bade Paap kiye hai .........jo ISCA ke rup me Bhagwan punishment de rahe hai..crying

3 Like


Leave a reply

Your are not logged in . Please login to post replies

Click here to Login / Register  

Join CCI Pro


Subscribe to the latest topics :

Search Forum: